धनवान भारत पार्टी

इसका अर्थ यह है कि भारत दुनिया का सबसे धनवान देश है. जी हा हम इसे ३६ महिनो के अंदर हि सिद्ध कर देंगे. हम लेकर आ रहे है २१ वी सदि कि सबसि बडी क्रांती जो इस देश कि अर्थिक, राजनैतिक और प्रशासन यंत्रणा को बदल देगी.

हमारा नारा ९०% विरुध्द १०%

आज हम ९०% लोग दुसरे १०% लोगो के परिवारो के गुलाम बन चुके है. हमारे बच्चे सिर्फ कतारो में खडे होकर छोटे छोटे कार्य के लिये अपना किमती समय खर्च करते है. और हम अभी नही जग उठे तो यह अपनी आने वाली पिढी को भी ऐसा हि बना देंगे. और राजवाडा सिस्टम का उपयोग करके हमे गुलाम बना देंगे. यह १०% लोग और उनके परीवार्जनो के पास मंत्रालय और प्रशासन जैसी सबसे बडी संस्थाये है. यह पुरी कि पुरी ताकत भिन्न-भिन्न पक्षो में बाटी हुई है. चुनावो के बाद जिस पार्टी को ज्यादा सीट मिळते है. उस पार्टी को सपोर्ट करते है और उनको सरकार बनाने में सहायता करते है. उसके बाद आणे वाले बडे प्रकल्प आपस में बाट लेते है. और आगे अने वाले चुनाव कैसे जीत सकते है इस पर विचार सुरु करते है. और ऐसे दिखाते है कि ९०% लोगो के लिये उनके अधिकारो के लिये उह एक दुसरे से झगडा कर रहे है.

एक दुसरे के उपर करप्शन का इल्जाम लगाते है और हम जैसे साधारण जनता के लिये काम कर रहे है इस तरीके का चित्र निर्माण कर देते है. हम लोगो को खुश करणे के लिये कभी कभी तो किसी को गिरफ्तार भी कर लेते है. आखिर में जीनके उपर कभी इल्जाम किया जाता है तो उनके इल्जामो कि जाचं करणे के लिये समिती बनाई जाती है. कूछ समय के लिये उसे उस पद से दूर किया जाता है. आम तोर पर ऐसा देखा गया है कि इस समिती कि जरीये लंबे समय तक जाचं करणे का कार्य चलता हि रहेता है. और इस समिती के लिये जनता का पैसा खर्च भी होता है. सामान्य नागरिक से लुटा हुंआ पैसा आज तक वापस नही आया है. फिर पैसा लुटणे के भी अलग अलग तरीके है. जैसे बडे आदमी सरकारी बँक से बडे बडे लोन लेकर बाद में विदेशो में जाकर बस जाते है. हथियार खरीदी हो या सडक बनाने के प्रकल्प हो पेट्रोल के दाम बढकर साधारण आदमी का पैसा लुटा जाता है . देश और समान्य नागरिक के लिये कूछ करणे के लिये उनके पास समय हि नही रहेता . क्योकी अपने हि रीश्तेदार और परिवार के लोगो में बडे बडे पद बाते जाते है. सडक पर होणे वाले गड्डे और उनकी समाचार पत्र में अने वाली तस्वीरे देखणे को उनके पास पास फुरसत हि नही होती है.

एक पुरा पेज बडे नेता के साथ लंबी योजना कि लिस्ट देकर सामान्य नागरिक को मूर्ख बनाया जाता है. अस्लीयत में यह योजना सामान्य नागरिक से पैसा निकलने के लिये हि बनाई जाती है. हम इन बातो पर आपका हमारा किमती समय खर्च नही करणा चाहते . हम जो लेकर आ रहे है , उसकी हमारे पास योजना है. जिसके आधार से कार्यक्रम को समय पर सामान्य जनता में पाहुचाने के लिये आसान हो जायेगा. बजेट में कितना पैसा लाना है, उसके लिये क्या तरीके है, उसका सभी फोर्मुला हमारे पास है. पहिले हि साल में हम बजेट में तीन गुना पैसा ला सकते है. आणे वाले २०२० में हम इसे दोगुण कर सकते है. आज के भारत नई पिढी कि यह जरुरत है. मेरे ३० सालो कि मेहनत से और मेरे अनुभव से मैने निचे दी गई योजनावो को तैयार किया है.

हमारा नारा ९०% विरुद्ध १०%

धनवान भारत पार्टी

पार्टी के मुख्य लक्ष

१- डीजल और पेट्रोल की कीमतें क्रमशः 30.0 और 40.0 रुपये प्रति लीटर होगी।
२- भारत को टोल फ्री बनाया जायेंगा. पुरे टोल १२ महिनो के अंदर निकाल दिये जायेंगे.
३- मापदंड पूरा करने वालों के लिए गैस सिलेंडर की कीमत 100 रुपये तक होगी.
४- सभी कर्मचारियो को फ्री हॉस्पिटल और पेन्शन मिलेगी.
५- किसानों के लिए ट्रैक्टर, बीज, उर्वरक, दवाएं और अन्य उपकरण 0% GST पर दिए जाएंगे। किसान आत्महत्याएं 36 महीनों के भीतर समाप्त हो जाएंगी
६- छोटे से कर्मचारी जैसे कि अंगणवाडी इत्यादी कि न्यूनतम वेतन 3०० रु. प्रती दिन यांनी कि 9००० रु. महिना कि जायेगी.
७- पुरे देश के गाव गाव में अम्बुलंस सर्विस पाहुचायी जायेगी.
८- भारत के हर बच्चे को १० वी तक कि शिक्षा फ्री दी जायेगी और कॉलेज में जानेवाले बच्चो को स्टुडट कार्ड से १० लाख तक कि सहायता उपलब्ध करायी जायेगी.
९- 1 से 2 लाख तक सालाना वेतन वाले लोगो को फ्री घर यानी कि बिलकुल फ्री. रजिस्ट्रेशन के पैसे भी नही देने होंगे.
१०- सडक के गड्डे को भी पुरे देश में 36 महिनो में समाप्त किया जायेगा.

राष्ट्रीय अध्यक्ष
श्री गोस्वामी शिवुभाई (स्वामीजी)

अध्यक्ष स्वामी मेडिकल एवं रीसर्च सेंटर(SMRC)

layout styles

पेट्रोल डीज़ल के दाम

आंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल कि किमते २०१४ से 100 डॉलर प्रती ब्यारल थी. कुछ समय के बाद वही किमते 70 डॉलर प्रती ब्यारल हो गयी थी. फिर भी अपने सरकार ने पेट्रोल के दाम और टेक्स बडा दिये और ४ साल से हमे लुट रहे है. हम पेट्रोल और डीज़ल कि किमते २०रु. प्रती लिटर तक कम करेंगे और जो राज्य हमारे साथ मिलकर कम करेगा उन राजयो के पेट्रोल डीझेल के दाम 40 रु. तक कम किये जायेंगे. इससे सामान्य नागरिक का मोटार सायकल का उपयोग करणे वालो कि लगबग १००० से २००० रु. प्रती महिना बच सकते है. इस बची हुई राशी से आसानी से उसके घर का 15 दिनोका राशन हो सकता है. पेट्रोल और डीझेल कि किमतो में गीरावट होणे कि वजह से सब्जी , दुध जैसे जीवन आवश्यक चीजो कि किमत भी कम हो सक्ती है. और किसानो को भी लाभ होगा.

layout styles

टैक्स रेफोर्म

पुरे देश में ज्यादातर टैक्स खतम किये जायेंगे. GST को आधे से भी ज्यादा कम किया जा सक्ता है. जिस के कारण व्यापारी वर्ग को राहत मिलेगी. और चीजो कि किमत भी कम हो सक्ती है.

layout styles

टोल फ्री भारत

पुरे देश से टोल को निकाला जायेगा. उससे आपके किमती समय कि भी बचत होगी और टोल भरणे के लिये जो लंबी कटारे लगती है उसकी वजह से पेट्रोल और डीझेल ज्यादा खर्च होता है. कभी कभी टोल कि वजह से टोल से भी ज्यादा पेट्रोल और डीझेल का खर्च होता है. एक अभ्यास के अनुसार पुरे देश टोल का लगबग कलेक्शन १९००० हजार करोड है. जाब कि इंतजार में जलने वाला इंधन १२५००० करोड से भी ज्यादा है. यह कैल्कुलेशन सरकार को क्यू नही समज आती. क्योकी यह टोल का कलेक्शन करणे वाला उन १०% लोगो में से हि है या उनके रीश्तेदार है.

layout styles

फ्री हॉस्पिटल और पेंशन सभी के लिये

हमारा सोशल सिक्युरिटी सिस्टम भी अपग्रेड किया जायेगा जैसे कॅनडा और फ्रांस में है. जिसमे चपरासी से लेकर संचालक से सभी कार्म्चारियो को हमारे हेल्थ इन्सुरस के तहत मुफ्त हॉस्पिटल और जीवन बिमा भी मुफ्त में मिलेगा . अचानक काम छुट जाने पर हर कर्मचारी को उसके वेतन का आधा वेतन छह माहिने तक दिया जायेगा. आज पेन्शन सभी सरकारी कर्मचारी वर्ग को भी नही मिळती है. हमारे कार्यक्रम के अनुसार उपर दी गयी सभी सुविधा निजी और सरकारी कर्मचारी वर्ग को प्राप्त हो सक्ती है. हमारा यही प्रयास रहेगा कि भारत के सभी कर्मचारी वर्ग को सभी सुविधा मिलनी चाहिये. जो आज तक कभी नही हुवा है. इस काम को १२ महिनो में पुरा किया जायेगा.

layout styles

छोटे कर्मचारी और मजदूर

जैसे कि कारखानो में काम करणे वाले या खेती में काम करणे वाले मजदूर, अंगणवाडी को कम से कम २५०/- रु. प्रती दिन मिलेगा. और इन सभी लोगो फ्री हॉस्पिटल और जीवना बिमा भी फ्री उपलब्ध किया जायेगा. आणे वाले ५ सालो में सभी लोगो के लिये जॉब कार्ड बनायेंगे. ठेकेदारी सिस्टम को भी खत्म कर देंगे. क्योकी इस ठेकेदारी कि वजह से हि कर्मचारोयो का शोषण होंता है.

layout styles

मुफ्त शिक्षा

हम भारतीय बच्चो को १०वि तक मुफ्त शिक्षा दिलवायेंगे और उसे अनिवार्य किया जायेगा. शहरो के या गाव बच्चो को ट्रान्सपोर्ट , स्कूल के युनिफोर्म और किताबे भी मुफ्त में दिये जायेंगे.

layout styles

स्टुडट कार्ड

ज्याद तर बच्चे आज १२ वि के बाद पढाई को आधे में हि छोड देते है. उनके परीवास के अर्थिक परिस्थिती कि वजह से यह होता है. हमारा यह स्टुडट कार्ड हर एक बच्चे को आगे पडणे के लिये उनकी कॉलेज कि फी , होस्टेल ट्युशन , बुक्स के लिये पैसा उपलब्ध कारायेंगे. जिसकी लिमिट १०लक तक होगी. उसके लिये स्टुडट को सिर्फ एक अग्रीमेंट करणा होगा उसमे उसके लिये खर्च कि गई राशी को उसे जॉब मिळणे के बाद चुकांना होगा. उससे बच्चो का भविष्य भी बनेगा और बडी बडी कंपनी कि लोग भी मिल जायेंगे.

layout styles

फार्मर' कार्ड

किसानो को उनकी फसल बेचने के बाद भी पैसे नही मिलते . गन्ने के किसानो को तो दो दो साल तक इंतजार करना पडता है. फिर साहुकार से उनको महेंगे व्याज पर कर्ज लेना पडता है. गुलामी और व्याज का पैसा भी खतम होणे का नाम हि नही लेता हमारे किसान कार्ड से किसानो को बुवाई के समय उसके खर्च का २५% एडवांस पेमेंट मिलेगा बिना व्याज और फसल गिरवी रखे बिना फसल बेचने के बाद उसको उह २५% वापस करणा होगा. यह कार्यक्रम १२ महिनो में चालू किया जायेगा. आज किसानो को कृषी उपकरण ट्रक्टर खाद बीज दवाइया पर भी GST देणा पडता है. ये सब GST 0% में लाया जायेगा.

layout styles

किसान आत्महत्या और SC ST के साथ भेदभाव

आज तक कोई भी सरकार इस प्रोब्लेम को खतम नही कर सकी है क्योकी वह उसे मुद्दा बनाकर चुनाव जितने कि कोशिश करते है. उनको इनके जान कि कोई पर्वा नही होती. हमारे देश के लिये यह शर्मनाक है. हम इसें आने वाले ३ साल में खतम कर देणा चाहते है. कोई भी किसान अर्थिक प्रोब्लेम यांनी कि बिमारी, बच्चो को पढाई बेटे-बेटी कि शादी या फसल मर जाने पर आने वाली परेशानी से कोपी आत्महत्या नही करेगा. क्योकी हम हर किसान के घर तक पहूच जायेंगे और उसको आणे वाले मुसीबतोसे पहेले हि उनका समाधान कर देंगे. ये गरीब लोगो को मिलने वाली योजनावो को करोडो कि गाडी में घुमने वाले दिल के इतने गरीब होते है कि ये पैसा उन तक पहुचने से पहले हि ये अपने खाते में ले लेते है. और प्रशासन के लोग इन गरीबो को चक्कर कटवाते रहते है. हमारे कार्यकर्ता से यह सुविधा उनके घर तक पहुचायेगे.

layout styles

अम्बुलंस सर्विस

आज पीछले गाव और शहरो में कूच इलाको में लोगो के पास कोई आपत्कालीन सेवा मौजूद है हि नही . जीससे डिलिवरी के समय ओरतो को वक्त पर हॉस्पिटल नही ले जा सकते , और सभी को इसका सामना करना पडता है हम इसके लिये पुरे देश के हर एक तहसील में अपना क्लिनिक और ऑफिस खोल कर हर जगह २-३ अम्बुलंस खडी करके २४ घनते फ्री सर्विस को उपलब्ध किया जायेगा. हर गाव जो तहसील से जुडा है वहा यह सब सर्विस उपलब्ध कि जायेगी. हमारे धार्मिक स्थानो कार्यक्रम के तहत भी आपत्कालीन सर्विस उपलब्ध कि जायेगी.

layout styles

फ्री घर

इसका मतलब है कि बिना पैसा का घर. आज हमारी सरकार इनके नाम पर बिल्डर का प्रोमोशन करते है. जो घर पहले 20 लाक में बेचता था अब वह २५ लाक में बेचता है. फिर सबसिडी के नाम पर आपसे २.५ लाक रुपये कम किये जाते है., मतलब आपको 20 लाक का घर साडे बाईस लाक में मिलेगा. अपसे २.५ लाक ज्यादा बिल्डर को दिये वही २.५ लाक रुपये बिल्डर मोदिजी के पार्टी को चंदा देंगे. हमारे पास ऐसी कोई स्कीम नही है हम फ्री घर देंगे. उससे रजिस्ट्रेशन का पैसा भी नही लेंगे. और कोई लॉटरी सिस्टम भी नही होगा. उससे हम दो श्रेणी में आनेवाले जो जरुरतमंद लोग है , उन सभी को घर देंगे,
ए श्रेणी- मेट्रो सिटी में रहणे वाले लोग जिनके परिवार में २ या ज्यादा लोग है और जिनकी आय सालाना २ लाक से कम है उन सबको घर दिये जायेंगे.
बी श्रेणी- छोटे शहरो में और गाव में रहने वाले लोग जिसकी आय सालाना १ लाक से भी कम है उनको भी यह घर मिलेंगे.

layout styles

गड्डे मुक्त सडके

गड्डे क्या है ? यह सोने का अंडा देणे वाले मुर्गी के अंडे है. क्योकी ठेकेदार जो भी सडक बनाता है वैसे बनाता है कि जिसमे छह महिनो में गड्डे आ हि जाये. तो उनको भरणे कि लिये वह सरकार से पैसा निकालता रहेगा. तो ये उसके लिये सोने के अंडे है. आपकी गाडी गिरकर तूट जाये या आप उसमे गिरकर मर जाये उनको कोई फर्क नही पडता . इस चार साल में मोदी जी कि सरकार कि विकास में मुंबई कि सडके को गिनीज बुक का रेकोर्ड तोडणे वाला बना दिया. जर्मनी में कितनी बारीश होती है और बर्फ भी पडती है फिर भी सडके तुटती नही है. हा हम ऐसे हि सडके बनायेंगे जो १०-२०सल कि गेरंटी के रहेंगे. चाहे ये काम हमे जर्मन कंपनी से हि करवाना पडे. मेट्रो सिटी में ये काम १२ महिनो में और पुरे देश में यह काम ३६ महिनो में पुरा कर दिया जायेगा.

layout styles

स्वच्छ भारत

मोदीजी के यह प्रोग्राम और शौचालय के प्रोग्राम के तहत बी. जे. पी. के रीश्तेदार नये करोडपती जरूर बन गये. परंतु सफाई मोदीजी के दिल्ली में और मुंबई में भी नही दिखती है. टोकियो कि लोकसंख्या मुंबई और दिल्ली के बराबर है. फिर भी वो कितना साफ शहर है. वो इस कचरे से गैस और बिजली पैदा करते है. हम भी यह काम २४ से ३६ महिनो में पुरा कर लेंगे.

layout styles

रेल्वे ब्रिज और स्टेशन

अंग्रेज लोग पुरे देश में रेल्वे लाईन बिछा गये. और स्टेशन बना गये. ७० साल के बाद भी हम उन्हे रिपेअर नही करा पाये. लोग मर जाते है इन ब्रिज को क्रोस करणे के लिये जानवरो कि तरह सुबह-श्याम जाना पडता है और मंत्री जी एक मौत होणे के बाद ५ लाक देणे कि घोषणा कर देते है. यह भारत के नागरिक कि जान कि किमत है. और मंत्री जी के लिये १-२ डिनर और लंच के पैसे है. हम आने वाले ५ साल में ट्रेन कि स्पीड डबल, १० नयी बुलेट ट्रेन का प्रयोजन करेंगे. सभी स्टेशन को बाहर देशो कि तरह आधुनिक कर देंगे.

layout styles

रोजगार

धनवान भारत पहले ६ महिनो में केंद्र सरकार के लिये २ करोड यंग - ग्रेजुएट लोगो को हायर करेगा. हमारी प्रोग्राम के विकास के साथ ३ साल में इतनी रोजगार कि निर्मिती होगी कि कोई भी बेरोजगार नही रहेगा और हमे विदेश से कर्मचारी लाने पडेंगे.

layout styles

करप्शन

पैसा और रोजगार आणे के बाद करप्शन ऐसे हि खतम हो जायेगा. सभी कार्माचारियो को अच्छी सुविधा और बोनस ऑफर किये जायेंगे. उसके साथ वार्निंग भी दी जायेगी. पकडे जाने पर निलंबन और जाच पडताल नही चलेगा सिधा टर्मिनेट किया जायेगा. यह काम भी ३६ महीनो में पुरा करणे का लक्श है. अगर यह सब चाहते हो तो सपोर्ट करो. हम ९०% लोगो ने ७० साल गवा दिये है. इन लोगो कि वही बाते नयी टोपी के साथ हर ५ साल में आती है. हम थोडे से पैसो के लिये , और दारू के लिये अपना किमती वोट बेच देते है. आपके सहयोग से हि हम इस १०% लोगो कि जाल से बच पायेंगे. और आने वाली पिढी को इस गुलामी से बचा पायेंगे. हम दुसरी पार्टी के लोगो और दलबदलीयोको कभी भी अपनी पार्टी में नही लेंगे. पिछले ४ साल में इन लोगो को याद नही रहेता कितनी पार्टीया बदल चुके है ये लोग सिर्फ वोट बँक कि बात करते है. जिसको यह कैसे भी धर्म, जाती, भाषा , आरक्षण जैसे मुद्दे में उलझा कर अपने को बांध देते है इनकी कोई आयडीयालॉंजी नही है. सिर्फ पॉवर में कैसे रेहना है याही इनका लक्श है. ये है धनवान भारत जो अटल है वही भारत क भविष्य है . हम हमारे ९०% लोगो कि जरुरत है. यह इतिहास बनाना है. और यह आंधी कभी रुकने वाली नही है. और यह क्रांती तो होनी हि है. हमे सुशिक्षित काबिल इमानदार लोग जो देश के लिये काम करणा चाहते है. ऐसे लोगो कि हमे जरुरत है. हमे राजकुमार या बडे टाईकून कि जरुरत नही है. जो सरकार को बनणे से पेहले हि खरीद लेते है. इसबार बिकना नही है. हमारे सभी कार्यक्रम किसी व्यक्ती विशेष या जाती . धर्म , भाषा , या आरक्षण राज्य के लिये नही है. परंतु प्रत्येक भारतीय नागरिक पुरुष, महिला, बच्चे, बुजुर्ग सबके के लिये है. गैस सिलिंडर सस्ता होगा या पेट्रोल, डीझेल के दाम कम होंगे तब इसका लाभ सभी भारतीय अमीर.गरीब सभी को होगा.